ग्रन्थ शिल्पी में आपका स्वागत है!!

 
  

 Price: Rs. 325
 
उत्पीड़ितो का शिक्षाशास्त्र  
पाओलो फ्रेरे

यह पुस्तक उस परंपरागत अर्थ मैं शिक्षाशास्त्र का विवेचन नहीं है, जिस अर्थ में बी एड और एम एड की पाठ्य पुस्तकों में हमें देखने को मिलता है| इसमें विवेचित शिक्षाशास्त्र का आधार काफी व्यापक है| पिछले ढाई दशको के दौरान ज्ञान की बिभिन शाखाओ के चिंतन को प्रभावित करने वाली विश्व की यह अनोखी पुस्तक है|



 Price: Rs. 475 /225
 
गरीब बच्चों की शिक्षा  
बीट्रीस एवालॉस (संपादक)

शिक्षा की दृष्टि से तीसरी दुनिया के ज्यादातर देश विचित्र संकट के दौर से गुजर रहे हैं| इन देशों में स्कूल शिक्षा और भी खराब हालत में है| अध्यापको को खराब परिवेश में काम करना पडता है और उससे भी कहीं अधिक खराब परिवेश में छात्रों को पढ़ना पडता है| इन सब का नतीजा बहुत त्रासद होता है, यानि खराब शिक्षण, गुणवत्ताविहीन शिक्षा और हर साल अनुतीर्ण होने वाले छात्रों की बहुत बड़ी संख्या भौतिक और मानव संसाधनों की बर्बादी का संकेत देतें हैं|



 Price: Rs. 325 /150
रवीन्द्रनाथ का शिक्षाशास्त्र  
रवीन्द्रनाथ ठाकुर

शिक्षा के विमर्श में व्यापक रूप से उथलापन आज किसी को चौकाता नहीं है | यह हमारे लिए चिंता का विषय है | आज के शिक्षव्यव्स्थापको में न तो रुढियों से हटने का साहस है, न उनकी प्राथमिकताएं स्पष्ट है | उनकी शिक्षा की व्यख्या में शब्दाडंबर की भरमार है |



 Price: Rs. 325 /150
 
बच्चो से बातचीत
गैरथ बी मैथ्यूज

बच्चो से बातचीत करना कोई नई बात नहीं है | अक्सर हम बच्चो से बातें करते ही रहतें हैं ; कभी अभिभावक के रूप में, कभी दादा – दादी के रूप में, कभी चाचा – ताऊ के रूप में और कभी शिक्षक के रूप में| इस बातचीत की विषयवस्तु प्रायः एक सी होती है | हम अपनी बातचीत में उनको कुछ न कुछ करने के लिए कहतें रहते है और कभी कभी कुछ न करने की भी हिदायत देते है | कहना न होगा कि इस बातचीत से हमारा दृष्टिकोण मूलतः विधि – निषेध वाला होता है जिसका मूल उद्देश्य उनको कुछ अच्छी बात सिखाना होता है |